असंगठित क्षेत्र में कार्यरत महिला एवं पुरुष की दैनिक मजदूरी में अन्‍तर

surjit kumar verma

Abstract


भारतीय समाज की संस्‍कृति एवं विरासत पर अनेकों बार अलग अलग संस्‍कृति के राष्‍ट्र राज्‍य व्‍दारा हमले होते रहे है ।  जिससे वैदिक काल से चली आ रही समृध्‍दशाली ऐतिहासिक परम्‍परा क्षीण हुई ।  मुख्‍य रुप से महिलाओ की सामाजिक प्रस्थिति में गिरावट आयी।  वतर्मान भारतीय संस्‍कृति मे महिला की भूमिका को लेकर पुरुष प्रधान समाज व्‍दारा सवाल कियेजा रहे है  कि महिलाओं को अपनी भूमिका निभाने में अनेक समस्‍याये आती है ।  अत- वास्‍तविक कारणों की पहचानकर उनकी समस्‍याओं का समाधान आवश्‍यक है ।  शोध पत्र में महिलाओं की दैनिक मजदूरी में अन्‍तर के वास्‍तविक कारणों को मुख्‍य विषय के रुप में लिया गया है ।

Full Text:

PDF

Refbacks

  • There are currently no refbacks.


Creative Commons License
This work is licensed under a Creative Commons Attribution 3.0 License.