महिलाओं की सामाजिक स्थिति में सशक्तिकरण का योगदान (तहसील बाजपुर उधम सिंह नगर के विशेष संदर्भ में )

Neha Gupta

Abstract


सृष्टि के आरंभिक काल से ही समाज के विकास में पुरुषके समान ही महिलाओं का भी विशेष महत्‍व रहा है।  महिला सृजन और निर्माण शक्ति की ेविभुति है।  वह समाज और संस्‍कृति की जन्‍मदात्री तथा पोषककत्री है।  जीवन के हर क्षेत्र मे महिलाओं के योगदान को स्‍वीकार किया गया है, क्‍योंकी महिलाएवं पुरुष का महिलाओं के विकास के बिना राष्‍ट्र के विकास की बात करना एक कोरी कल्‍पना प्रतीत होता है।  आज लिंग परीक्षण भ्रण हत्‍या और बालिका शिक्षा की समस्‍या केवल महिला ही नही,  वन राष्‍ट्रीय एवं अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर की समस्‍या बन गयी है।  वर्तमान समय में ऐसे कई क्षेत्र है जहॉं बालिकाओं के जन्‍म को अभिशाप माना जाताहै।  भारत में स्‍वतंत्रता के बाद से महिला कल्‍याण के लिए एवं 90 के दशक के दशक के बाद से महिला सशक्तिकरणहेतुसरकारी व गैर सरकारी स्‍तर पर निरन्‍तर प्रयास किए जाते रहे है।  ग्रामीणमहिलाओं की शिक्षा स्‍वाथ्‍य स्थिथी आर्थिक सहभागिता निर्णय क्षमता आदि के संदर्भ में पुरुषो की तुलना में कमजोर स्थिति को देखते हुए ग्रामीण क्षेत्रो में महिला सशक्तिकरण जैसे कार्यक्रम चलाए जा रहे है ।  सशक्तिकरण का पहला कआयाम महिेलाओं में आत्‍मविश्‍वास और स्‍वाभिमान को जागृत करना है।  किन्‍तु ग्रामीण समाज में महिलाओं की दशा अत्‍यंत दयनीय है।  शहरों में तो शिक्षा समाज सुधार आंदोलन और प्रचार प्रसार के माध्‍यम से महिलाओं मे अपने अधिकारोंके प्रति समानता एवं स्‍वतंत्रता का भाव जागृत हुआ है।  परन्‍तु ग्रामीण समाज में औरतें पारिवारिक व सामाजिक शोषण की शिकार हो रही है।  वर्तमान समय में ऐसे कई क्षेत्र है  जहॉं बालिकाओं के जन्‍म को अभिशाप माना जाता है । 

निष्‍कर्ष – यह कहा जा सकता है कि हमारे देश के आजादी के 67 वर्ष पश्‍चात भी पुरुषों की धारणानुसार महिलाएं वंश को आगे बढाने व काम करने की मात्र यंत्र है।  जो कि सिर्फ घर के काम को अपना कर्तव्‍य समझ कर करे और अपने अधिकारों के विषय में किसी से बात न करे ।  परंन्‍तु समय के परिवर्तन होने के साथ – साथ महिलाएं अपने अधिकारों के विषय में सजग हो रही है ।  


Keywords


महिला सशक्तिकरण, सामाजिक स्‍वास्‍थ्‍य, सामाजिक शोषण, भ्रण परीषण व हत्‍या, बालिका शिक्षा

Full Text:

PDF

Refbacks

  • There are currently no refbacks.


Creative Commons License
This work is licensed under a Creative Commons Attribution 3.0 License.